Social Trade से जुड़े लोगो के लिए जानकारी

0

Social Trade से जुड़े लोगो के लिए जानकारी 

Hindi Tech Guru  पाठको का स्वागत है मेरी आज की पोस्ट में आज की पोस्ट किसी तकनिकी जानकारी से जुडी नहीं है बल्कि आज मैं आपको एक ऐसी साइट के बारे में बताने वाला हु जिसने लोगो को गुमराह करके 3700 करोड़ रूपये का चुना लगाया।
Social Trade
मेरे ब्लॉग को पढ़ने वाले बहुत से पाठक और मेरे ग्रुप में जुड़े बहुत से मेंबर भी इस वेबसाइट के द्वारा ठग लिए गए है. मैं बात कर रहा हु एक ऐसी वेबसाइट की जो एक पेज को लाइक करने पर अपने 5 रूपये देती थी. इस वेबसाइट का नाम है Social trade. 

यह वेबसाइट अपने कुछ प्लान के तहत लोगो के अकाउंट ओपन करती है. इस वेबसाइट पर मौजूद प्लान की शुरुआत 5750 रूपये से शुरू होकर 57500 रूपये तक थी. यानी जितना बड़ा आपका प्लान होगा उतने ज्यादा आपको लाइक करने को मिलेंगे। 

इस साइट पर एक बार मेंबर शिप लेने के बाद कस्टमर को एक यूजर नेम और पासवर्ड दिया जाता था. उस यूजर नेम और पासवर्ड से लॉगिंग होने के बाद उसे प्लान के हिसाब से पेज को लाइक करने के विकल्प मिलते थे. और लाइक करने के बाद ही हफ्ते के हिसाब से या महीने के हिसाब से मेंबर के बैंक अकाउंट में पैसा आता था.

Social Trade पर लोगो की दिवानगी इस कदर शुरू हो गयी थी की हर कोई इस साइट से जुड़ना चाहता था. भाई जब पैसा घर बैठे बैठे ही मिल रहा हो तो कौन ऐसे पैसे को नहीं लेना चाहेगा। बिना नोकरी करे घर बैठे बैठे रोज के 400 500 रूपये प्राप्त होने में लोगो को कमाई का इस से अच्छा साधन कोई लगता ही नहीं था.

Social trade की एक और खासियत थी आप जितने ज्यादा मेंबर अपने निचे जोड़ोगे उतना ज्यादा आपको कमाई करने का मौका मिलेगा। जो लोग Social trade से जुड़े थे. वो लोग ज्यादा कमाई के चक्कर में अपने रिस्तेदारो और अपने दोस्तों को भी इसमें जोड़ रहे थे. और ज्यादा लाइक पर क्लीक कर रहे थे.

खेर कहते है ज्यादा लालच करना बुरी बात होती है. अक्सर लोग ज्यादा लालच के चक्कर में अपना सब कुछ गवा देते है. तो Social Trade से जुड़े लोगो के साथ भी ऐसा हो गया. कल नोएडा में इस कंपनी को चलाने वाले लोगो को पकड़ा गया है. इन लोगो ने 7 लाख लोगो को लगभग 37 करोड़ रूपये रूपये का चुना लगाया।

Free SMS Phone Call Tracker यहाँ क्लीक करके डाउनलोड करे 

हलाकि Social trade को चलाने वाले जिन लोगो को पकड़ा गया था उन्हें छोड़ दिया गया है. और कंपनी ने मालिक ने लोगो को भरोसा दिलाया है. कि एक हफ्ते में जिन जिन लोगो की पेमन्ट रुकी हुई है. वो सब उनके अकाउंट में आ जाएगी। 

मेरा पोस्ट लिखने का मकसद आपको केवल इतना ही बताना था कि ऑनलाइन ऐसी बहुत सी वेबसाइट मौजूद है जो इस तरह की काम करती है. मेंबर शिप लेना फिर लोगो को जोड़ना यह एक तरह की Social Networking कमाई है जो आजकल हम सभी के बिच बहुत तेजी से पैर पसार रही है.

कमाई करने का मन तो सभी का करता है. लेकिन कमाई करने का मजा तब आता है जब हमे अपनी जेब से कुछ देना ना पड़े. बिना पैसे दिए ही मात्र लोगो को जोड़ना पड़े और कमाई हो जाए.    

कोई पैसा हमे अपनी जेब से नहीं देता बल्कि हमारा पैसा एक दूसरे की जेबो में ट्रांसवर करता रहता है. अगर कमाई करनी ही है तो कमाई के बहुत से जरिये है. जरुरी नहीं हम ऐसे लोगो के चक्कर में फसे जो हमे चुना लगा कर भाग जाए. इसलिए जिसके साथ भी जुड़े बहुत सोच समझ कर जुड़े। क्योंकि इस इन्टरनेट की दुनिया में बहुत से लोग आपको चुना लगाने के लिए ही बैठे है.

Social Trade से जुडी आप खबरे आज यानी 3 फरवरी 2017 के सभी  News Paper में देख सकते हो. कंपनी के मालिक ने भरोसा तो दिलाया है अपने सभी मेंबर को. बाकी देखो क्या होता है. हो सकता है यह कंपनी दुबारा से लोगो के बिच आ जाए. ये तो वक्त ही बताएगा। जो भी लोग Social Trade से जुड़े है उनके पास सब्र करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है. तो सब्र करे हो सकता है सब पहले की तरह ठीक हो जाये। और सभी के पैसे उनके अकाउंट में वापिस आ जाये।  

अगर यह कंपनी दुबारा वापिस आती है तो यह India की सबसे बड़ी Social networking साइट होगी। जो लोगो को मात्र क्लीक करने के हजारो लाखो रूपये घर बैठे बैठे ही दे रही है  

आज के लिए बस इतना ही. मिलते है जल्दी अगली पोस्ट में क्योंकि मैं आपको कुछ ऐसे तरीके बताऊंगा जहा आपको अपनी जेब से कुछ नहीं देना बस मेहनत करनी है. और आप सभी को मालूम ही है मेहनत का और सब्र का फल हमेशा मीठा ही होता है. तो इन्तजार करे मेरी आने वाली पोस्ट का.   
     

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top