blog read more ब्लॉग में Read More का ओप्संश लगाने का तरीका

read more html code for blogger
read more html code for blogger
बहुत से ऐसे ब्लॉग है जिनमे रीड मोर का ओप्संश नहीं है और उन्हें खुलने में बहुत टाइम लगता है मेरे ब्लॉग भी शुरू शुरू में ऐसा ही था ब्लॉग खोलते ही मेरे ब्लॉग की सारी पोस्ट फ्रन्ट पेज पर ही दिखने लगती थी लेकिन अब मेरे ब्लॉग में रीड मोर का ओप्संश है 
अगर आपके ब्लॉग में रीड मोर का ओप्संश नहीं है तो आज की पोस्ट आप ही के लिए है आप भी अपने ब्लॉग में रीड मोर का विकल्प लगा सकते बस इसके लिए आपको अपने ब्लॉग के HTML कोड में कुछ बदलाव करना होगा जिसका तरीका मैं निचे दे रहा हु
सबसे पहले आप अपने वर्तमान ब्लॉग को सुरक्षित कर लें ताकि अगर आपको भविष्य में कोई कठिनाई हो तो आपका ब्लॉग टेम्पलेट सुरक्षित रहे ब्लॉग का बैक अप् लेने के लिए dashboard से Design > Edit HTML पर जाएँ "download full theme" पर क्लिक करें और ब्लॉग के टेम्पलेट को अपने कंप्यूटर पर सेव कर लें

अब Expand Widget Templates विकल्प पर क्लिक करें

Edit HTML परCtrl+F Key का भी प्रयोग कर सकते हैं
 डेटा पोस्ट बॉडी वाला कॉड जो आपको ऊपर चित्र में दिखाई दे रहा है उस कोड को ढूंढें

यह कोड मिलने के बाद इसकी जगह आगे दिया गया पूरा कोड पेस्ट कर दे इस कॉड को आप यहाँ क्लिक करके पेस्ट कर सकते है 
अब ऊपर दिए गए चित्र के अनुसार हेड कोड ढूंढे इसके लिए आप Ctrl+F Key का भी प्रयोग कर सकते हैं जब यह कोड मिल जाये तो इससे पहले इस page पर दिया गया कोड पेस्ट कर दे यहाँ क्लिक करके पेज पर जाए 
अब अब Preview पर क्लिक कर देख लें की सब ठीक है फिर सेटिंग को सेव कर दें और अपने ब्लॉग को देखे उसमे रीड मोर का ओप्संश आ गया होगा    

Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 

इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

5 comments so far,Add yours

  1. प्रिय श्रीमयंकजी,

    यह नुस्खा काम तो कर रहा है,मगर मैं ज्यादातर मेरी पोस्ट में १००% कन्टेट एक ही पेज पर पोस्ट करता हूँ, ऐसे में read more उस पोस्ट के पेज पर नाक़ाम करने के लिए क्या करना चाहिए? क्योंकि अगर वहां कोई गलतीसे चटका लगा दें, तो एक ही पोस्ट दो बार खुल दिखाई देती है । मुझे पोस्टिंग कैसे करना चाहिए?

    अगर आप मुझे mdave42@gmail.com पर मेइल करेंगे तो मैं आपका बहुत ऋणी रहूँगा । धन्यवाद ।

    मार्कण्ड दवे।

    ReplyDelete
  2. helo mayank ji

    You might also like:

    ye ke se karte he is ke baare me bataye

    plz

    ReplyDelete
  3. helo

    You might also like:

    ye kis tah se kiya jata he bataye

    mayak ji

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ