Neelkanth Mahadev Photo

दोस्तों आज सोमवार का दिन है तो सोच रहा हू आपको नीलकण्ठ महादेव जी के दर्शन करा दू जहा आप लोग गए तो होंगे पर ठीक से नीलकण्ठ महादेव जी के दर्शन नहीं कर पाए होंगे आज में आपको नीलकण्ठ महादेव जी के दर्शन करवाऊंगा आज में अपने ब्लॉग पर नीलकण्ठ महादेव जी के ऐसे फोटो दे रहा हू जो आपको कभी नहीं मिलेंगे आप इन फोटो को अपने मंदिर में भी लगा सकते है
 एक नजर यहाँ पर भी डाले
अलादीन के चिराग वाला चिन्न हुक्म करो मेरे आका.

भगवान की प्रतिज्ञा 

मेरे मार्ग पर पैर रखकर तो देख,
तेरे सब मार्ग न खोल दुँ तो कहना॥
मेरे लिए खर्च करके तो देख,
कुबेर के भंडार न खोल दुँ तो कहना॥
मेरे लिए कडवे वचन सुनकर तो देख,
कृपा न बरसे तो कहना॥

मेरी तरफ आ के तो देख,
तेरा ध्यान न रखूं तो कहना॥
मेरी बाते लोगो से करके तो देख,
तुझे मुल्यवान न बना दुँ तो कहना॥
मेरे चरित्रों का मनन करके तो देख,
ज्ञान के मोती तुझमें न भर दुँ तो कहना॥

मुझे अपना मददगार बना के तो देख,
तुम्हें सबकी गुलामी से न छुडा दुँ तो कहना॥
मेरे लिए आँसू बहा के तो देख,
तेरे जीवन में आंनद के सागर न बहा दुँ तो कहना॥
मेरे लिए कुछ बन के तो देख,
तुझे कीमती न बना दुँ तो कहना॥

मेरे मार्ग पर निकल कर तो देख,
तुझे शान्तिदूत न बना दुँ तो कहना॥
स्वयं को न्यौछावर करके तो देख,
तुझे मशहूर न कर दुँ तो कहना॥
मेरा कीर्तन करके तो देख,
जगत का विस्मरण न करा दुँ तो कहना॥
तु मेरा बन के तो देख,
हर एक को तेरा न बना दुँ तो कहना॥

श्री नीलकण्ठ महादेव जी का इतिहास

अमृत प्राप्ति के लिए दैत्यों और देवताओ ने समुद्र मंथन के द्वारा उत्पन्न प्रसिद्व कालकूट नामक विष को पीकर मणिकूट पर्वत के मूल मे स्थित भगवान श्री नीलकण्ठ जी है, जो भक्तों का कल्याण करने वाले हैं।

श्री नीलकण्ठ महादेव जी के पहुचने का मार्ग निम्न है।
ऋषिकेश तथा लक्ष्मण झूला के मध्य में गंगा जी के पूर्वी भाग में स्थित पर्वत का नाम मणिकूट है। इसी मणिकूट पर्वत के अग्नि पार्श्व में स्वयंम्भू लिंग के रूप में श्री नीलकण्ठ महादेव जी विराजमान है।
श्री नीलकण्ठ महादेव जी के मन्दिर जाने के लिये लक्ष्मण झूला के पास आपको बहुत गाडी मिलेगी जिसके द्वारा आप बहुत ही कम समय मे नीलकण्ठ पहुँच जाओगे। अगर आप पैदल जाना चाहते हो तो स्वर्गाश्रम के उत्तरी पार्श्व से एक मार्ग जाता है, इस मार्ग से आगे जाने पर पर्वत की तलहटी से लगा हुआ समतल मार्ग चिल्लाह-कुन्हाव को जाता है। उसी मार्ग पर डेढ किलोमीटर चलने पर एक पहाडी झरना आता है। उस झरने को पार करते ही उस मार्ग को छोड़कर बायीं ओर मुड जाना पडता है। वहां पर तीर के निशान सहित श्री नीलकण्ठ महादेव जी के नाम का बोर्ड लगा हुआ है। तीर के निशान द्वारा उसी दिशा की ओर आगे बढ कर श्री नीलकण्ठ महादेव जी का वास्तविक मार्ग आरम्भ होता है।
इस मार्ग पर डेढ किलोमीटर आगे चलने पर नीचे की ओर स्वर्गाश्रम, लक्ष्मण झूला एवं गंगा जी का द्रश्य बहुत सुन्दर दिखाई देता है। लगभग दो किलोमीटर आगे चलने पर पानी का एक छोटा सा तालाब आता है इसमे पहाडी से पानी हर समय बूंद बूंद निकलता रहता है इसमे बारहों महीने पानी रहता है। इसको बीच का पानी कहते है। यह पानी स्वर्गाश्रम तथा श्री नीलकण्ठ महादेव जी के मध्य मे माना जाता है यहाँ से दो किलोमीटर आगे चलने पर पानी की टंकी आती है। यहॉ पर चाय की दुकान रहती है यहां थोडा विश्राम कर लेना चाहिये। अब चढ़ाई समाप्त हो गई है। यहां से लगभग २०० मीटर की दूरी चलने पर पर्वतों के शिखरो के परस्पर मिलने से बने हुए एक छोटे से मैदान में पहुंच जाते हैं। यहां खडे होने पर बांई ओर मणिकूट पर्वत, दाहिनी ओर विष्णुकूट पर्वत ओर सम्मुख ब्रह्मकूट पर्वत के शिखर पर श्री भुवनेश्वरी पीठ एवं तीनो पर्वतों के संधिमूल में श्री नीलकण्ठ महादेव जी दिखाई देते है।
गंगा जी के प्रवाह से मणिकूट पर्वत की उंचाई ४५०० फिट है। मणिकूट पर्वत से लगभग १५०० फिट नीचाई पर श्री नीलकण्ठ महादेव जी का मन्दिर है।

अब कीजिये श्री नीलकण्ठ महादेव जी के दर्शन

 श्री नीलकण्ठ महादेव जी के दर्शन
nilkanth mahadev
nilkanth mahadev


nilkanth mahadev
nilkanth mahadev


nilkanth mahadev
nilkanth mahadev


nilkanth mahadev
nilkanth mahadev


nilkanth mahadev
nilkanth mahadev


nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

nilkanth mahadev
nilkanth mahadev
nilkanth mahadev
nilkanth mahadev

आपको श्री नीलकण्ठ महादेव जी के दर्शन करना केसा लगा बताइयेगा जरुर
Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 

इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

14 comments so far,Add yours

  1. मैंने ये देखा हुआ है फिर भी सुन्दर चित्रों के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. bhut achi picture hai..vese mujhe kisi ne kaha tha ki aaj shivratri hai par mujhe lga ki shivratri to feb me aati hati....

    ReplyDelete
  3. sir maine khabi nahi dekha sir bhaut acchi picture hain

    ReplyDelete
  4. bahut achchhi tasviren hain. dhanywad.

    ReplyDelete
  5. mayank ji bahut bahut aabhar.. vijayadashmi ki shubhkamnayen

    ReplyDelete
  6. Bhole Baba Ke Darsan Karane Ke Liye Dhanyabad "Bam-Bam-Bhole"

    ReplyDelete
  7. mayankji aap ko dushere ki hardik shubkamna.aap ne bhagvan neelkanth ji ke manmohak swarup ke ghar bethe dharshan ke leye dhanyvad

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ