जाने कब हम इतने बड़े हो गए

14
आज कोई तकनिकी पोस्ट नही आज कुछ दिल की बात आज से हर हफ्ते आपके लिए कुछ स्पेशल शायरी लाया करूंगा वैसे मै कोई शायर नही हू बस कुछ अच्छा लगता है तो सोचता हु अपने ब्लोग पर पोस्ट कर दू तो आज से दिल की बात से एक नई शुरूआत उम्मीद हे आप सब को पसन्द आएगी तो शुरू करता हु दिल की बात

जाने कब हम इतने बड़े हो गए

कभी पहली बार स्कूल जाने मे डर लगता था
आज मिलते हे दोस्त बन जाते है
कभी मां-बाप की हर बात सच्ची लगती थी
आज उन्ही को हर पल झूटलाते है.......

परीयो की कहानी की जगह आजकल रात को
फोन पर दोस्त की बात सुनना ज्यादा अच्छा लगता है..........

पहले 1st आने के लिए पूरे साल पढते थे
आज पास होने को तरसते है
कार्टून की जगह अब रीयलटी शो अच्छे लगते है........

कभी छोटी सी चोट लगने पर इतना रोते थे
आज दिल टूट जाता है फिर भी संभल जाते है
पहले दोस्त बस साथ खेलने तक याद रहते थे
आज वो ही दोस्त जान से ज्यादा प्यारे लगते है.......

एक दिन था जब पल मे लडना पल मे मनना था रोज का काम
आज जो एक बार जुदा हुए तो फिर घेहरे रिश्ते तक खो जाते है.......

सच मे जिन्दगी ने बहुत कुछ सिखा दिया
जाने कब हमे इतना बड़ा बना दिया...............

Post a Comment

14 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ

  1. Bahut badiya likhtay ho good Bahut badiya likhtay ho good

    ReplyDelete
  2. आप भी बड़े शायर हो गए है|

    ReplyDelete
  3. :k क्या बात है। बहुत बढ़िया। :q

    ReplyDelete
  4. सुन्दर भावाभिव्यक्ति!!!!

    ReplyDelete
  5. बहुत सही कहा है आपने

    ReplyDelete
  6. कही जन्मदिन तो नहीं आज आपका

    ReplyDelete
  7. JI MAYANK BHAIYE POST AACCHAA LAGA...

    ReplyDelete
  8. डियर फ्रेंड आप कैसे हो ? आप जो भी पोस्ट करते हो मुझे अच्छी लगती है !

    ReplyDelete
  9. डियर फ्रेंड आप कैसे हो ? आप जो भी पोस्ट करते हो मुझे अच्छी लगती है !

    ReplyDelete
  10. डियर फ्रेंड आप कैसे हो ? आप जो भी पोस्ट करते हो मुझे अच्छी लगती है !

    ReplyDelete
  11. bhut accha lgta hai sir apki shayri ko pad kr

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ

Post a Comment

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top