आप सभी के सहयोग से मेरे ब्लॉग को चाहने वालो की संख्या 1000 के पार पहुच गयी है ये मेरे लिए बहुत ख़ुशी की बात है ब्लॉग बनाने के बाद मैंने कभी सोचा ही नहीं था कि मेरे ब्लॉग के Followers 1000 तक भी जा सकते है आप सभी लोगो का दिल से बहुत बहुत धन्यवाद

शुरूवात मैंने नवीन जी के सहयोग से करी थी और जोश आप लोगो के सहयोग से मिला आप लोगो के सहयोग से आज मेरे चाहने वालो की लिस्ट 1000 पार कर गयी है 1000 फ्लोवर के साथ साथ ब्लॉग के विजटर की संख्या भी 6000 से पार है जो की रोज मेरे ब्लॉग को पढ़ते है। और जो मैंने इसी साल आप लोगो की हेल्प के लिए एक Whatsapp नंबर चालू किया था उसमे भी अब तक लगभग 2000 लोग जुड़ चुके है जो की सीधे अपने मोबाइल से ही अपनी समस्या लिख कर मुझे Msg कर देते है Whatsapp का नंबर मैं अपने PC से ऑपरेट करता हु अगर ये ही नंबर मैं अपने मोबाइल से ऑपरेट करता तो शायद मेरा मोबाइल इतने ज्यादा ट्रेफिक नहीं झेल पाता शुक्र है Whatsapp वाले नंबर को अपने PC से ही ऑपरेट करता हु और लोगो की समस्या का समाधान करता हु Whatsapp पर जो मैंने ग्रुप बनाये हुवे है उन ग्रुप में भी सब लोग एक दूसरे की हेल्प कर रहे है जिसकी मुझे बेहद ख़ुशी है

ब्लॉग बना कर मुझे बहुत से लोगो से बात करने का मोका मिला मुझे कुछ साथी ऐसे भी मिले जिन्हें कंप्यूटर में कुछ भी नहीं आता था लेकिन मेरे ब्लॉग से जानकारी हासिल करके वो कमाने लगे है मैंने कभी नहीं सोचा था की इतने लोग मुझ से और मेरे ब्लॉग से जुड़ेंगे और ये ब्लॉग आप सब के इतने काम आयेगा मेरी भी ये ही कोशिश रहेगी आप लोगो के साथ इसी तरह बना रहू
 यह जादुई आकड़ा देख कर सच में मुझे बहुत ख़ुशी होती है अभी तो बहुत दूर तक जाना है बहुत से लोगो से जुड़ना है  ...........उम्मीद करता हु आगे भी आप लोगो का साथ इसी तरह बना रहेगा और आपके सहयोग से मुझे और जोश मिलता रहेगा। एक बार फिर आप सभी लोगो का दिल से धन्यवाद

चलते चलते आपके चेहरे पर एक छोटी सी मुस्कान छोड़ जाता हु

शादी के बाद पत्नी कैसे बदलती है,जरा गौर कीजिए:
पहले साल: मैंने कहा जी खाना खा लीजिए, आपने काफी देर से कुछ खाया नहीं।
दूसरे साल: जी खाना तैयार है, लगा दूं?..
तीसरे साल: खाना बन चुका है, जब खाना हो तब बता देना।..
चौथे साल: खाना बनाकर रख दिया है, मैं बाजार जा रही हूं, खुद ही निकालकर खा लेना।
पांचवे साल: मैं कहती हूं आज मुझसे खाना नहीं बनेगा, होटल से ले आओ। ..
छठे साल: जब देखो खाना, खाना और खाना,अभी सुबह ही तो खाया था।

शादी के बाद पति कैसे बदलते है,जरा गौर कीजिए:
पहले साल: jaanu संभलकर उधर गड्ढा हैं ...
दूसरे साल : अरे यार देख के उधर गड्ढा हैं ..
तीसरे साल : दिखता नहीं उधर गड्ढा हैं ..
चोथे साल : अंधी हैं क्या गड्ढा नहीं दिखता
पांचवे साल : अरे उधर -किधर मरने जा रही हैं गड्ढा तो इधर हैं ..
Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 
इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

8 comments so far,Add yours

  1. Mubhark Ho Aap Ko :)
    And Thanks.. Itana acha site banane ke liye

    ReplyDelete
  2. समय का फेर है ,पर दोनों ही बदल गए तो कैसी चिंता रिश्ते पुराने होने पर अपना स्वरुप बदलते हैं तो उनकी निकटता भी अलग रूप ले लेती है

    ReplyDelete
  3. इस उपलब्धी के लिए आपको बधाई हो। आपके ब्लॉग से हमेशा अच्छी जानकारीयाँ प्राप्त होती है।

    ReplyDelete
  4. इस उपलब्धी के लिए आपको बधाई हो। आपके ब्लॉग से हमेशा अच्छी जानकारीयाँ प्राप्त होती है।

    ReplyDelete
  5. MAYANK SIR APKO BAHUT BAHUT BADHAI
    IS UPLBDHI KE LIYE

    ReplyDelete
  6. MAYANK SIR APKO BAHUT BAHUT BADHAI
    IS UPLBDHI KE LIYE

    ReplyDelete
  7. you are great ... mayank bhai !

    ReplyDelete
  8. सर मेरी तरफ से भी बधाई

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ