STREET CRICKET game download

अगर मैं आपसे पुछु की बचपन में आप क्रिकेट कहा खेलते थे तो आप में से बहुतो का जवाब होगा कि गली में खेलते थे गली में क्रिकेट खेलने का ही मजा कुछ और था पडोसी बेचारे चिल्लाते रहते थे कि बंद करो क्रिकेट हमे सोने दो पर हम कहा मानने वाले थे पूरा क्रिकेट खेलकर ही मानते थे और कभी कभी तो घरो में लगे कांच के शीशे या बल्ब टूट जाते थे बचपन में खेला हुवा क्रिकेट आज भी याद आता है

लेकिन जब बड़े हुवे तो कम्पूटर में क्रिकेट गेम खेलने का मोका मिला लेकिन वो मजा नहीं आया जो गली में खेलकर आता था आज मैं आप सब के लिए ऐसा ही गेम लेकर आया हु जो आपको आपके बचपन की याद दिला देगा आपने कंप्यूटर पर क्रिकेट तो बहुत खेला होगा लेकिन जो मैं आज आपके लिए क्रिकेट का गेम लाया हु वो आपने कभी नहीं खेला होगा इस क्रिकेट का नाम है गली का क्रिकेट इसे खेलना इतना आसन नहीं है जितना आप सोच रहे हो चाहो तो खेल कर देख लो इस गली के क्रिकेट को खेलकर आपको सच में बहुत मजा आयेगा
इस बेहतरीन गैम को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करे और खो जाए बचपन की यादो में

चलते चलते किसी की कि शायरी मेरी जुबानी

याद आते है वो स्कूल के दिन 
ना जाते थे स्कूल दोस्तों के बिन 
कैसी वो दोस्ती थी कैसा था वो प्यार 
एक दिन की जुदाई से डरते थे जब आता था शनिवार 

चलते चलते पथरों में मारते थे ठोकर 
कभी हसते गाते तो कभी चलते थे रोकर 
कन्धों मैं किताब लिए हाथ में बोतल पानी 
किसे पता था बचपन की दोस्ती बिछुड़ा देगी जवानी 

याद आते है वो शयाही से रंगे हाथ 
क्या दिन थे वो जब करते थे लंच साथ 
छुटटी की घंटी सुनते ही वो भाग के कमरे से बहार आना 
फिर हँसते हँसते दोस्तों से मिल जाना 

काश वो दोस्त आज भी मिल जाते 
दिल में फिर से बचपन के फूल खिल जाते 
याद आते है वो स्कूल के दिन 
ना जाते थे स्कूल दोस्तों के बिन 

Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 
इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

3 comments so far,Add yours

  1. mayank bhai application failed likh raha hai.....window 7 pe ye game chalega ya nahi??????

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब

    धन्यवाद.

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ