hinditechguru duplicate blog

पिछले हफ्ते मेने एक बुक पढ़ी वो एक ऐसी मैगजीन है। जिसे मैं पिछले 7 या 8 साल से पढ़ रहा हु वो एक कंप्यूटर की मैगजीन है। जो की हर महीने निकलती है। इसी मैगजीन के द्वारा में कंप्यूटर में बहुत कुछ सीखा हु। इस बार की मैगजीन कुछ खास थी क्युकी इस मैगजीन में मेरे ब्लॉग का लेख भी दिया हुवा था। अपने ब्लॉग का लेख देखकर मुझे ख़ुशी तो मिली लेकिन ये देख कर थोड़ी बहुत निराशा जरुर हुई की उस लेख में मेरा नाम नहीं दिया गया था किसी ज्योति के नाम से वो लेख छपा है निचे दिए हुवे चित्र में आप मेरे ब्लॉग का वो लेख देख सकते है
इस फोटो पर दिया गया लेख का ओरिजनल आप यहाँ क्लीक कर के देख सकते है खेर मेरे ब्लॉग का लेख उस मैगजीन में छपा जिसे में बहुत टाइम से पढता आ रहा हु। ये ही मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। भले ही उन्होंने मेरा नाम न दिया हो, लेकिन एक रास्ता तो दे दिया जिस पर चल कर मैं अपने ब्लॉग की किताब भी निकाल  सकता हु। वो भी डाउनलोड लिंक के साथ मन तो बहुत करता है, कि अपने ब्लॉग की किताब निकल दू लेकिन हिम्मत नहीं हो पाती।
 बहुत से लोगो में मुझे बोला भी है की मयंक भाई आप अपने ब्लॉग की किताब निकाल दे ताकि कंप्यूटर की जानकारी उन लोगो तक पहुच सके जो इनरनेट का इस्तेमाल नहीं करते या फिर आपके ब्लॉग के बारे में नहीं जानते। आपकी किताब निकालने में हम आपकी पूरी साहयता करेंगे आप बस एक बार हां बोल दे और सारा काम हमारे ऊपर छोड़ दे लेकिन मेने ही उन्हें मना कर दिया। अगर मेरा मुंड बना तो उन्हें जल्दी ही अपनी किताब लिखने का मोका दूंगा अभी फिलाल कोई मुंड नहीं है ...........
ये तो थी किताब की बात अब बात करते है ऑनलाइन की। ऑनलाइन भी बहुत से ऐसे ब्लॉग है जो मेरे ब्लॉग के लेख को पूरा का पूरा पेस्ट करके अपने ब्लॉग पर पोस्ट करते है, इन ब्लॉग पर मेरी वो पोस्ट भी है जिन्हें मेने हटा कर ड्राफ़ फोल्डर में सेव करा हुवा है। यानि वो मेरे डुप्लीकेट ब्लॉग है। मुझे उन ब्लोगर से मेरी पोस्ट को अपने ब्लॉग पर देने के लिए कोई शिकायत नहीं है, बस इतनी सी शिकायत है की अगर वो मेरे ब्लॉग की पोस्ट देते है तो कम से कम मेरे ब्लॉग का लिंक तो दे ताकि लोगो को ओरिजनल पोस्ट देखने का मोका मिले।

वेसे तो मुझे अपने डुप्लीकेट ब्लॉग की कोई जरुरत ही नहीं है। लेकिन ये डुप्लीकेट ब्लॉग उन लोगो के जरुर काम आ सकते है जिन्हें मेरे ब्लॉग को खोलने में परेशानी आती है या फिर मेरे डुप्लीकेट ब्लॉग आपके तब काम आ सकते है जब मैं आप लोगो के बिच नहीं रहूँगा वेसे मेरा दूर जाने का कोई विचार नहीं है तब भी वक्त का कोई भरोसा नहीं खेर छोडो ये बाते आपको मिलाता हु अपने डुप्लीकेट ब्लॉग से निचे दिए हुवे लिंक पर क्लीक कर के आप मेरे डुप्लीकेट ब्लॉग देख सकते है और उन्हें शाबासी भी दे सकते है क्युकी बड़ी मेहनत करके वो मेरी पोस्ट को अपने ब्लॉग पर लगाते है

पहला डुप्लीकेट ब्लॉग यहाँ है

दुसरे डुप्लीकेट ब्लॉग पर जाने के लिए यहाँ क्लीक करे 

तीसरे डुप्लीकेट ब्लॉग पर जाने के लिए यहाँ क्लीक करे

चोथे डुप्लीकेट ब्लॉग पर जाने के लिए यहाँ क्लीक करे

पाचवे डुप्लीकेट ब्लॉग पर जाने के लिए यहाँ क्लीक करे

इन डुप्लीकेट ब्लॉग पर जाकर आपको मेरे ब्लॉग के साथ साथ और भी ब्लॉग के लेख मिलने यानि इतने सारे तकनिकी लेख पढ़ कर आपको बहुत कुछ सिखने को मिलेगा इतना कुछ जो की आपने मेरे ब्लॉग से भी नहीं सिखा होगा और भी बहुत से ऐसे डुप्लीकेट ब्लॉग है जो मेरी पोस्ट को अपने ब्लॉग पर देते है लेकिन आज के लिए इतना ही बहुत है आप भी मजे करे मेरे डुप्लीकेट ब्लॉग के साथ 
Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 

इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

22 comments so far,Add yours

  1. प्रिय मयंकजी,

    आप के लेख में आप के मन की व्यथा व्यक्त हो रही है पर, आप ज़रा भी दुःख न करें क्योंकि पूरा देश लूट रहा है. ऐसे में हमारे एक आखेख की क्या औक़ात है..!

    पवित्र गीताजी, का वही सुप्रसिद्ध उपदेश याद रखने से दर्द कम होगा ? "कर्मण्येवाधिकारस्ते...।"

    खुश रहें,स्वस्थ रहें, लिखते रहें यही प्रार्थना के साथ - मार्कण्ड दवे ।

    ReplyDelete
  2. ये जो नकलची ब्लाँग नबर पाँच हैँ COMPUTER SEKHO ये आपका ही का नही ये नवीन भाई का ब्लाँग का भी नकल किया हैँ।

    ReplyDelete
  3. ये जो नकलची ब्लाँग नबर पाँच हैँ COMPUTER SEKHO ये आपका ही का नही ये नवीन भाई का ब्लाँग का भी नकल किया हैँ।

    ReplyDelete
  4. भाई इसी का नाम हे काम हम करे और फल कोई और ले जाये अर्थात पकी पकार्इ खीर खाने वाले

    ReplyDelete
  5. हे हे हे...
    पर, नकल के लिए भी अकल चाहिए.
    आपने जहाँ उस टूल को डाउनलोड करने का लिंक टिकाया है (एम्बेड किया है)वो इस प्रिंट मैगजीन के छापे गए पाठ में नहीं आया है. भाई लोगों को वो टूल डाउनलोड करने का लिंक तो अलग से छाप देना था!
    हद है!!!
    :)

    ReplyDelete
  6. मेरे ख़याल से आपको ब्लॉग सुरक्षित का विजेट अपने ब्लॉग पर लगाना चाहिए.और इन ब्लोगर्स को चेतावनी भेजनी चाहिए.ना मानने पर कारवाही करनी चाहिए.ये तो सरासर गलत है.मुझे तो बहुत दुःख दुआ,ये देख कर भी.आपको ऐसे लोगों का सही इलाज़ करना चाहिए.जो खुद कुछ करते नही हैं ,और दूसरों के ब्लोगों से पोस्ट्स ही चोरी करके अपने नाम से भेज देते हैं.

    ReplyDelete
  7. मैँ भी जानकारी तो इधर .उधर से लाता हुँ पर आज तक किसी हिँदी ब्लोग कि पोस्ट नकल नहीँ कि मै ज्यादातर अंग्रेजी ब्लोग के टिप्स अपनी भाषा मेँ समझाकर लिखता हुँ लेकिन फिर भी उसका लिँक देता हुँ दुसरे के पोस्ट काँपी करना बहुत बुरा लगता हैँ पर पता नही इन सबको कैसे पच जाता है मुझे तो उल्टी आ जाएगीं । खैर आप वेबपेज लाँक कर दिया करे जिस पोस्ट मे कोड है उसे छोडकर कुछ हद तक ये कम हो जायेँगा ।

    ReplyDelete
  8. mayank ji aap blogs se hi maine bahut si chije sihi hai .aap aise hi jankari dete rahe.danyabaad.

    ReplyDelete
  9. aap ke upar e tag live tv dekhe .ke upar karsar rahane par jo usme aur page ke ink dikhai dete hai .please mujhe banana bataye ya aap ki post ho to uska link bataye .aloktripathi025@gmail.com

    ReplyDelete
  10. सर आपको इनका विरोध करना चाहिए हम आपके साथ है

    ReplyDelete
  11. इनको भगवान ने इतनी अक्ल तो दी नही की खुद कुछ लिख सकें, इसी लिये ये पोस्ट चुराते हैं. ताकी इनके ब्लाग पर भी लोग आयें, आप की कृपा से कुछ एक के तो फालोवर भी है,हा हा हा,,,
    बहरहाल , मयंक भाई, असली असली ही होता है, धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. सर जो दम असली मै है वो नकली मै कहा होगा आप के बाते बता रही है कि आप कितने दुखी है
    आपके हि कारण मै आज इतने जानकारी प्राप्त कि है जिसका मै तहेदिल से धन्यवाद करता हु

    ReplyDelete
  13. हमारे मालवा में कहावत है की "नाचे कूदे वान्दरी(बंदरिया)ने खीर खाए फकीर"

    ReplyDelete
  14. मैगजीन में जो "यहाँ क्लिक" लिखा है, वहाँ क्लिक करने से कुछ नहीं होगा. शुद्ध नकलची है. आपकी मेहनत सराहनीय है.

    ReplyDelete
  15. मयंक जी कृपया मैगजीन का नाम बताये ....
    ज्योति को कम से कम यह लाइन तो हटा देनी चाहिए थी : -
    "आपको यहां क्लिक करके एक टूल डाउनलोड करना होंगा"
    अब उसे कौन समझाए की कागज़ पर क्लिक नहीं होता ! हा हा हा

    ReplyDelete
  16. मयंक जी कृपया उस मैगज़ीन का नाम बाते उससे आप सात आठ साल से पड़ रहे है

    ReplyDelete
  17. mayank ji number 3 blog toh band ho chuka hai.shyad use sharam aa gayi.chalo ye ek achi baat hi hai ki bina kuch bole 1 toh maan gaya.

    ReplyDelete
  18. aap likhte rahiye sir mere mann nain aapke liye kafi respect hai

    ReplyDelete
  19. bharadwaz sir aapke liye mere mann mai kafi respect hai aapke blog se jo seekha aur zo seekh raha hoo woh bahut hi upyogi hai

    ReplyDelete
  20. aap achcha kar rahe hai
    karte rahe
    amar

    ReplyDelete
  21. इन ब्लोगर्स को चेतावनी भेजनी चाहिए.ना मानने पर कारवाही करनी चाहिए.ये तो सरासर गलत है

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ