monitor brightness software


याद है मेरी पिछली पोस्ट जिसमे मैंने मछर को भगाने के सोफ्टवेयर के बारे में जानकारी दी थी अगर नहीं याद तो यहाँ क्लीक करके मछर भगाने वाले सोफ्टवेयर के बारे में पढ़े आज भी मैं आपकी सेहत से जुड़ा हुवा सोफ्टवेयर लाया हु जो आपकी आँखों का ख्याल रखेगा अगर आपका ज्यादा टाइम कंप्यूटर पर बीतता है तो शायद आपकी आँखों में दर्द हो जाता होगा वेसे तो आजकल बहुत से ऐसे एलसीडी आ रहे है जो हमारी आँखों को ज्यादा नुकसान नहीं पहुचाते लेकिन सबके पास एलसीडी तो है नहीं बहुत से लोग पुराने मोनिटर पर ही काम करते है और जो लेपटोप पर भी ज्यादा काम करते है उनकी आँखों पर भी ज्यादा फर्क पड़ता है लेकिन आज मैं आपके लिए ऐसा सोफ्टवेयर लेकर आया हु जो आपकी अखो को पूरी सुरक्षा देगा ये सोफ्टवेयर अपने आप ही तेजी से आ रही मोनिटर की रौशनी को हल्का कर देता है जिससे आपकी आँखों को पूरी सुरक्षा मिले इस सोफ्टवेयर को डालने के बाद ये निचे साईट बार में आ जायेगा जिसे आप अपनी जरूरत के अनुसार सेट कर सकते हो जैसे मैं इसका इस्तेमाल सुबह के समय करता हु क्युकी सुबह मैं अँधेरे में कंप्यूटर खोल कर बेठ जाता हु अँधेरा होने के कारण मोनिटर की लाइट ज्यादा आँखों में लगती है उस टाइम मैं इस सोफ्टवेयर को ऑन कर लेता हु और अपनी जरूरत के अनुसार सेट कर देता हु इस सोफ्टवेयर को ऑन करने के बाद मेरी आँखों पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता और मैं आराम से काम करता हु इस सोफ्टवेयर के डाउनलोड के लिंक मैं नीचे दे रहा हु जिसे आप अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के अनुसार डाउनलोड कर सकते हो 

Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 

इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

5 comments so far,Add yours

  1. कल 07/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आश्‍चर्य है .. ऐसा भी हेाता है ??

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी जानकारी मिली

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ