Splash Lite


आप में से बहुत से लोग कोई मूवी देखने के लिए वीएलसी प्लेयर का ही इस्तेमाल करते होंगे लेकिन कभी कभी हाई क्वालटी में बने विडियो रुक रुक कर चलते है लेकिन आज मैं आपके लिए जो प्लेयर लेकर आया हु वो वीएलसी जेसा है बेहतरीन प्लेयर है या यु कहे उससे कही ज्यादा अच्छा है जो आपके किसी भी विडियो को बिना रुके चलता है और जो काम आप वीएलसी प्येयर में नहीं कर सकते वो काम इस प्लेयर मैं बहुत ही बेहतरीन रूप में कर पाओगे और इस प्लेयर में एक ऐसी सुविधा है जो आज तक किसी भी मिडिया प्लेयर में नहीं थी इस प्लेयर में आप बिना फारवर्ड करे ही आगे के सीन के बारे में पता कर सकते हो कि आगे कोन सा सीन है इसके लिए आपको बस माउस को आगे कर कर के देखना है जेसे निचे चित्र में देख रहे हो 


इस विडियो प्लेयर में और भी बहुत कुछ है आप इसे एक बार इस्तेमाल जरुर करे ये आपके किसी भी विडियो को बिना रुके चलाएगा और अगर आप किसी खाश सीन कि फोटो अपने कम्पूटर में सेव रखना चाहते हो तो ये उस कम को बहुत भ बेहतरीन रूप में करता है 

Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 
इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

11 comments so far,Add yours

  1. भाईजान । मेरे नोकिया 3110 मोवायल में रिकार्डर विकल्प में । टायप आफ़ फ़ायल - AMR File
    कुछ आडियो ट्रेक ( बच्चे के द्वारा डब ) रिकार्ड है । इन्हें कम्प्यूटर में प्ले करना ( मीडिया प्लेयर
    आदि काम नहीं कर रहे ) और इनको ब्लाग पर पोस्ट करने के लिये कोई हिन्ट
    दें । ..अगर दो लाइन का मेल कर दें कि आपने ट्रीटमेंट कहाँ दिया है । तो और भी
    मेहरवानी होगी ।

    ReplyDelete
  2. राजीव जी इसके लिए आपको एक सोफ्टवेयर डाउनलोड करना होगा उस सोफ्टवेयर का लिंक मैं आपको मेल कर रहा हु :q

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी जानकारी धन्यवाद।, शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया जानकारी दी आपने. :q

    ReplyDelete
  5. देश और समाजहित में देशवासियों/पाठकों/ब्लागरों के नाम संदेश:-
    मुझे समझ नहीं आता आखिर क्यों यहाँ ब्लॉग पर एक दूसरे के धर्म को नीचा दिखाना चाहते हैं? पता नहीं कहाँ से इतना वक्त निकाल लेते हैं ऐसे व्यक्ति. एक भी इंसान यह कहीं पर भी या किसी भी धर्म में यह लिखा हुआ दिखा दें कि-हमें आपस में बैर करना चाहिए. फिर क्यों यह धर्मों की लड़ाई में वक्त ख़राब करते हैं. हम में और स्वार्थी राजनीतिकों में क्या फर्क रह जायेगा. धर्मों की लड़ाई लड़ने वालों से सिर्फ एक बात पूछना चाहता हूँ. क्या उन्होंने जितना वक्त यहाँ लड़ाई में खर्च किया है उसका आधा वक्त किसी की निस्वार्थ भावना से मदद करने में खर्च किया है. जैसे-किसी का शिकायती पत्र लिखना, पहचान पत्र का फॉर्म भरना, अंग्रेजी के पत्र का अनुवाद करना आदि . अगर आप में कोई यह कहता है कि-हमारे पास कभी कोई आया ही नहीं. तब आपने आज तक कुछ किया नहीं होगा. इसलिए कोई आता ही नहीं. मेरे पास तो लोगों की लाईन लगी रहती हैं. अगर कोई निस्वार्थ सेवा करना चाहता हैं. तब आप अपना नाम, पता और फ़ोन नं. मुझे ईमेल कर दें और सेवा करने में कौन-सा समय और कितना समय दे सकते हैं लिखकर भेज दें. मैं आपके पास ही के क्षेत्र के लोग मदद प्राप्त करने के लिए भेज देता हूँ. दोस्तों, यह भारत देश हमारा है और साबित कर दो कि-हमने भारत देश की ऐसी धरती पर जन्म लिया है. जहाँ "इंसानियत" से बढ़कर कोई "धर्म" नहीं है और देश की सेवा से बढ़कर कोई बड़ा धर्म नहीं हैं. क्या हम ब्लोगिंग करने के बहाने द्वेष भावना को नहीं बढ़ा रहे हैं? क्यों नहीं आप सभी व्यक्ति अपने किसी ब्लॉगर मित्र की ओर मदद का हाथ बढ़ाते हैं और किसी को आपकी कोई जरूरत (किसी मोड़ पर) तो नहीं है? कहाँ गुम या खोती जा रही हैं हमारी नैतिकता?

    मेरे बारे में एक वेबसाइट को अपनी जन्मतिथि, समय और स्थान भेजने के बाद यह कहना है कि- आप अपने पिछले जन्म में एक थिएटर कलाकार थे. आप कला के लिए जुनून अपने विचारों में स्वतंत्र है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में विश्वास करते हैं. यह पता नहीं कितना सच है, मगर अंजाने में हुई किसी प्रकार की गलती के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ. अब देखते हैं मुझे मेरी गलती का कितने व्यक्ति अहसास करते हैं और मुझे "क्षमादान" देते हैं.
    आपका अपना नाचीज़ दोस्त रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा"

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया जानकारी

    ReplyDelete
  7. आपको एवं आपके परिवार को हनुमान जयंती की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  8. बहुत उपयोगी जानकारी!
    भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ