yamraj mobile phon

दोस्तों अज कुछ अलग लिखने का मन कर रहा है तो चलो आज यमराज को फोन मिलते है 



मेरा जीवन आउट ऑफ डेट हो गया,
पता नही यमराज लेट हो गया।
या फिर मरने वालो की सूची खो गयी,
या हमारी मौत की तारीख निकल गयी।


इसलिये मैने यमराज को फोन मिलाया,
"किसने डिस्टर्व किया, मौत को बुलाया"।
मै बोला "अस्पताल मे खाट पर पड़ा हू",
बहुत दिनो से मौत की लाइन में खडा हू।


अब तो जीवन से छुटकारा दिलाइये,
मुझको भी अपने पास बुलाइए।
यमराज बोले बहुत ही जल्द आऊंगा,
औरों के संग तेरे भी प्राण ले जाऊंगा ।


तुम्हे भी कैसे बुरे वक्त में, मरने की सूझी है,
हे मरणासन्न जान लेना, वैसे तो बड़ा इजी है।
मगर क्या करू ऐ, मौत के आकांक्षी,
मेरा स्टाफ खाडी युद्व मे विजी है।
Share To:

Mayank Bhardwaj

                    ------------चेतावनी----------- 
इस profile में लिखी गयी सारी बातें सत्य घटना पर आधारित हैं । इन बातों का किसी और व्यक्ति/घटना से किसी भी प्रकार से मिलना (वैसे किसी से मिलेगी नही) महज़ एक संयोग समझा जाएगा । ********************** मैं एक नम्बर का लुच्चा, लफंगा, आवारा, बद्तमीज़, नालायक, बदमाश, दुष्ट, पापी, राक्षस (और जो बच गया हो उसे भी जोड़ लो) कतई नही हूँ यार । हाँ दारू, सुट्टा, गाँजा, अफ़ीम, हेरोइन वगैरह……अबे ये सब भी नही पीता हूँ यार मैं बहुत होनहार , सीधा-साधा , सबको प्यार करने वाला , नेक दिल , ईमानदार, हिम्मती, शरीफ़ (अबे पूरे शरीर से शराफ़त टपकती है भाई), भोलाभाला (बस भोला हूँ भाला वगैरह नही रखता यार………अबे आदिवासी ठोड़े ही हूँ) लडका हूँ 

Post A Comment:

3 comments so far,Add yours

  1. बहुत बढ़िया | आज तो आपने कुछ हटके पढवाया है | वैसे मर कर आदमी वही पहुचता है जहां आप रह रहे है |

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन जानकारियाँ तहे दिल से आपका शुक्रगुजार हूँ

    ReplyDelete

क्या आप को ये पोस्ट अच्छा लगा तो अपने विचारों से टिपण्णी के रूप में अवगत कराएँ